Wednesday, 16 January, 2008

लिखता रहूँगा


तब तक लिखूंगा
जब तक
मेरी भावनाओ को
शब्दो का घर मिल ना जाये
और मिल ना जाये जब तक
एक कोना मुझको
दिल मे तेरे फूल एक
खिल ना जाये तब तक


अनंत आनंद गुप्ता

No comments: